Press "Enter" to skip to content

समुद्र मंथन से निकला कलश कहां है, इस देश के मंदिर में आज भी दफन है ये राज

Sandy 0

आज की युवा जनरेशन को पौराणिक कथाओं की जानकारी टीवी के जरिए मिली। Google बाबा के चेलों की एक बड़ी संख्या Internet पर उस अमृत को तलाश कर रही है, जिसे देवताओं और दानवों ने वासुकि नाग को मन्दराचल पर्वत के चारों ओर लपेटकर मंथन करके निकाला था। पिछले दिनों कुछ वैज्ञानिकों ने बताया था कि मंथन के लिए जिस पर्वत का इस्तेमाल किया गया था, वह गुजरात में मिला है। लेकिन अभी भी लोगों की जिज्ञासा कहां खत्म होने वाली थी, अब पता करने की होड़ लग गई कि मंथन के बाद जो अमृत मिला था, वो कहां है।

यह भी पढ़ें- इन दोनों Actresses ने दिखाए अपने सिक्स पैक, Instagram पर वायरल हो रही तस्वीरें-

इंटरनेट के समुद्र में हमने भी डुबकी लगायी और आपके लिए अमृत के बराबर की जानकारी ढूंढ कर लाए हैं। जानकारी मिली है कि Indonesia में एक ऐसा मंदिर है जहां दावा किया जा रहा है कि यहां अमृत कलश रखा है। कुछ एक्सपर्ट ने दावा किया है कि कंडी सुकुह (candi sukuh) नाम के मंदिर में एक द्रव्य मिला है, जोकि हजारों सालों पुराना है। ऐसा कहा जाता है कि हजारों सालों से यह द्रव्य सूखा नहीं है। जो कलश इस मंदिर से मिला है, उसके अंदर एक शिवलिंग भी मिला है।

candi sukuh
Third party image

जिस मंदिर में यह कलश पाया गया है वहां की दीवार पर महाभारत का आदिपर्व भी अंकित है। साल 2016 की शुरुआत में पुरातत्व विभाग ने यहां मरम्मत का काम शुरू किया था। इस दौरान दीवार की नींव से विशेषज्ञों को कुछ मिला, जिसके बाद मंदिर को लेकर लोगों की राय बदल गई।

यह भी पढ़ें-  यदि आप भी इस तरह Kiss करते हैं तो ध्यान दें! हो सकते हैं इन खतरनाक बीमारियों के शिकार-

विशेषज्ञों की टीम को मंदिर के भीतर तांबे का एक कलश मिला, इसके अंदर एक पारदर्शी शिवलिंग रखा हुआ है। शिवलिंग के अंदर खास तरह का द्रव्य भरा हुआ है। शोधकर्ताओं के मुताबिक बर्तन से इसको बड़ी खूबसूरती से जोड़ा गया है ताकि यह खुल न सके। सबसे खास बात यह है कि जिस दीवार में यह घिरा हुआ है, उस पर अमृत मंथन की नक्काशी भी की गई है।

पुरातत्व विभाग के अनुसार इल कलश की कार्बन डेटिंग 12वीं सदी की है, इस काल में मलेशिया हिंदू राष्ट्र हुआ करता था लेकिन 15वीं सदी में जब खतरा हुआ तो इसे मंदिर के अंदर छिपा दिया गया।

Fenkmat.com से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें और ट्विटर पर फॉलो करें.  अगर आपको हमारा आर्टिकल पसन्द आया तो हमें कमेन्ट करके बताएं और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें।

Leave Your Comment Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *