Press "Enter" to skip to content

Chaitra Navratri 2018 : जानिये कैसे करें नवरात्रि की पूजन, इन राशियों वाले रखे इस बात का ध्यान..

archna

नवरात्रि में मां का पूजन फलदायी और शुभकारी माना जाता है। पर अगर इस पूजन को राश‍ि के हिसाब से किया जाए तो और अच्‍छा माना जाता है। जानें कैसे करें इस राश‍ि के हिसाब से पूजा – 

Chaitra Navratri 2018 Pujan | यदि आप नवरात्रि पूजन की तैयारी कर रहे हैं तो ये पूजा अपनी राश‍ि के अनुसार करें जिससे कि आपको और अच्छा फल प्राप्त हो सके।माता दुर्गा शक्ति की देवी हैं। विभिन्न स्वरूपों में साधक माता की पूजा करते हैं। अपनी मनोकामना पूरी करने के लिये मां को मनाते हैं।

दुर्गासप्तशती पर प्रत्येक मंत्र मनोवांछित फल की प्राप्ति कराने वाला होता है। वहीं कलयुग में नाम जप की बहुत मान्यता है। माता के 32 नाम और 108 नाम दुर्गासप्तशती में वर्णित है। इन नामों का जाप करने से समस्त दुखों का नाश होता है। 12 राशियों के स्वामी ग्रह होते हैं और उनका प्रभाव विशेष तौर पर मनुष्य के जीवन को बहुत प्रभावित  करता है।

Navratri के नौ दिनों में दुर्गासप्तशती का पाठ करना बहुत उत्तम रहता है। ऐसी पौराणिक मान्यता है कि अगर साफ-सफाई से सही शब्दों का उच्चारण किया जाए तो देवी मां का आशीर्वाद मिलता है। नवरात्रि में नौ देवियों की पूजा की जाती है। कई भक्त और श्रद्धालु कलश की स्थापना करते हैं, पूरे नौ दिनों तक व्रत करते हैं। नवरात्रि में नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूप की पूजा की जाती है। नवरात्रि पर भक्त मां के लिए नौ दिनों तक उपवास रखते हैं। फिर अष्टमी और नवमी वाले दिन कन्या पूजन के बाद उपवास खोला जाता है।

यह भी देखें-  अनुष्का शर्मा ने अपलोड किया ऐसा फ़ोटो कि किसी ने कहा अश्लील तो किसी ने कहा बहुत ही

ज्‍योतिष के जानकार सुजीत महाराज से जानें नवरात्रि में कैसे करें अपनी राश‍ि के अनुसार पूजन :  –

 – मेष राशि के जातकों को लाल फूल विशेषकर अड़हुल का फूल अर्पित करते हुए माता को लाल वस्त्र और स्वर्ण से श्रृंगार करना चाहिए।

 – वृष और तुला के जातकों को सुगंधित पुष्प माता को अर्पित करते हुए सिद्धिकुंजिकास्तोत्र का पाठ अवश्य करना चाहिए। माता के चरणों में चांदी का आभूषण अर्पित करने चाहिए।

 – मिथुन और कन्या के जातकों को माता जी को चुनरी और हरी साड़ी दान करना चाहिए। दुर्गासप्तशती का सम्पूर्ण पाठ करना चाहिए। बुध का द्रव्य कपूर भी है। इन राशि वालों को कपूर माता के दरबार में अवश्य जलाना चाहिए।

 – कर्क राशि के व्यक्तियों को माता की पूजा के साथ साथ शिव उपासना करते हुए चंद्रमा के बीज मंत्र का भी जप करना चाहिए। लाल-पीले पुष्प और चांदी के आभूषणों से माता का श्रृंगार करना चाहिए।

यह भी देखें-  इनके एक आइडिया ने बचा दी हजारों मुसाफिरों की जिंदगी ऐसे ट्रैकमेनो को सलाम..

 – वृश्चिक राशि के व्यक्ति अड़हुल के पुष्प अर्पित करते हुए स्वर्ण आभूषण से मां का श्रृंगार करें।

 – धनु और मीन के जातक दुर्गासप्तशती का सम्पूर्ण पाठ करते हुए श्री रामरक्षा स्तोत्र का ब्रह्म मुहूर्त में पाठ करें।

मकर और कुंभ के जातक नव दिन में सम्पूर्ण श्रीरामचरितमानस का पाठ करें। माता के चरणों में चांदी का आभूषण अर्पित करें।

ध्‍यान दें क‍ि इस बार नवरात्रि 8 दिनों तक ही रहेगा। 18 मार्च से कलश की स्थापना होगी और 25 मार्च को अष्टमी और नवमी एक ही दिन मनाई जाएंगी।

आपको हमारा आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेन्ट करके जरूर बताएं और आर्टिकल पसंद आये तो लाइक करें और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें।

Leave Your Comment Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *