Press "Enter" to skip to content

इन मामलों में कांग्रेस आज भी भाजपा से कई गुना पीछे, मुश्किल होगा 2019 का मुकाबला-

Lalit kumar Soni

भाजपा और कांग्रेस के बीच बढ़ता घमासान चुनाव नजदीक आने के साथ साथ बढ़ता जायेगा यह स्वाभाविक है। कांग्रेस ने जहां देश में इतने वर्ष तक शासन किया फिर भी इस मामले में कांग्रेस आज भी भाजपा से बहुत पीछे है। और यही वजह है कि भाजपा नेताओं द्वारा दिए गए बयान जल्दी से उनके हर कार्यकर्ता तक पहुँच जाते हैं। और वो इन बयानों का मौके के हिसाब से उपयोग करते हैं। और दोनों पार्टियों के बीच का ये अंतर काफी बढ़ा है, आप समझने के लिए कुछ इस तरह सोचिए कि एक 10 साल के बच्चे को किसी पहलवान से फाइट करना हो।

यह भी पढ़ें- सोशल मीडिया पर अपना बिकिनी फोटो डालने पर ट्रोल हुई (भाबीजी घर पर हैं की अंगूरी भाबीजी)-

जी हां ये अंतर है शोशल मीडिया पर कांग्रेस और भाजपा के फैन्स के बीच, आपको हमारी बातें गोलमोल लग रही होंगी और आप मन ही मन कह रहे होंगे फेंकमत।
तो चलिय ले चलते हैं आपको उन आंकड़ों की तरफ जिनसे ये स्पष्ट हो जाएगा कि सोशल मीडिया पर कांग्रेस का भाजपा से कोई मुकाबला ही नहीं है-

पहले फ़ेसबुक के आंकड़े-
INC INDIA
PAGE LIKES- 4,842,380
FOLLOWERS- 4,814,183
BJP
PAGE LIKES- 14,513,458
FOLLOWERS- 14,416,529
RAHUL GANDHI
PAGE LIKES- 1,808,043
FOLLOWERS- 1,828,920
NARENDRA MODI
PAGE LIKES- 43,269,569
FOLLOWERS- 42,795,000

अब हमारे मध्यप्रदेश की ही बात कर लेते हैं क्योंकि इसी वर्ष मध्यप्रदेश में चुनाव होने वाले हैं-

INC MP-
PAGE LIKES-159,893
FOLLOWERS-160,874
BJP MP-
PAGE LIKES-244,351
FOLLOWERS-244,649
अब जरा ट्वीटर की तरफ रुख करते हैं-
INC INDIA
FOLLOWERS- 4.4 Million
BJP
FOLLOWERS- 9.8 Million
RAHUL GANDHI
FOLLOWERS- 7.1 Million
NARENDRA MODI
FOLLOWERS- 43.1 Million

अब आप समझ ही गए होंगे कि हम फेंक नहीं रहे थे अगर सोशल मीडिया पर इलेक्शन होते तो कांग्रेस भाजपा से नहीं जीत पाती, पर चूंकि ऐसा तो होने से रहा।
कांग्रेस पुरानी पार्टी होने के साथ-साथ जमीन पर अपनी पकड़ जमाए रखने में ज्यादा भरोसा करती है। जबकि भाजपा सोशल मीडिया पर अपनी पार्टी के प्रोमोशन में काफी जागरूक नजर आती है।

यह भी पढ़ें- प्रियंका चोपड़ा ने की, पॉप स्टार निक जोनस से अपने संबंध के बारे में खुलकर बात-

लोगों तक पहुंच बनाने का सबसे आसान रास्ता आज सोशल मीडिया ही है, इसलिए कांग्रेस को 2019 के चुनाव से पहले सोशल साइट्स पर भी अपनी पकड़ मजबूत करनी होगी। जीत की राह आसान करने में 2014 में भी सोशल मीडिया का एक महत्वपूर्ण योगदान रहा था और 2019 में इसके योगदान की संभावनाएं 2014 के मुकाबले कई गुना ज्यादा हो गई हैं।

नोट- सभी आंकड़े फ़ेसबुक और ट्वीटर से.

Fenkmat.com से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें Facebook पर ज्वाइन करें और Twitter पर फॉलो करें. अगर आपको हमारा आर्टिकल पसन्द आया तो हमें कमेन्ट करके बताएं और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें।

Report – Lalit kumar soni

Leave Your Comment Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *