Press "Enter" to skip to content

क्या आप जानते हैं. Friendship Day की शुरुआत कब हुई थी, और इसे क्यों मनाया जाता हैं?

Abhinav Jha

“दोस्ती” ये शब्द सुनते ही एक अजीब सी चमक आ जाती हैं. हमारे चेहरे पर, क्योंकी सभी के जीवन मे कोई ना कोई एक दोस्त ऐसा ज़रूर होता. जो उसके जीवन मे सफलता का कारण बनता हैं. या उसे जीवन मे आगे बढ़ने के लिए सही रास्ता दिखता हैं. वो एक दोस्त हमारे जीवन मे बहुत महत्वपूर्ण होता हैं. अब इस रिश्‍ते को सलिब्रेट करने का दिन आ रहा है. हर साल अगस्त महीने के पहले रविवार को दुनिया भर में Friendship Day मनाया जाता है. इस दिन दोस्त अपनी दोस्ती का इजहार करते हैं.

लेकिन क्या आप जानते हैं कि फ्रेंडशिप डे की शुरुआत कब से हुई ? इसे क्यों मनाते हैं? नहीं, तो चलिए हम आपको बताते हैं- इसमे दो तरह के पहलू सामने आए हैं.

पहला ये

ऐसा कहा जाता है कि साल 1935 में अमेरिका में अगस्त के पहले रविवार को अमेरिकी सरकार ने एक निर्दोष व्यक्ति को मार दिया था, जिसकी याद में उसके एक दोस्त ने आत्महत्या कर ली थी. इसके बाद दक्षिणी अमेरिकी लोगों ने इस दिन को International Friendship Day के रूप में मनाने का प्रस्ताव अमेरिकी सरकार के सामने रखा था. उन निर्दोष दोस्तों की मौत पर पब्लिक ने बहुत गुस्सा दिखाया था, जिसके बाद अमेरिकी सरकार को उनकी बात माननी पड़ी लेकिन 21 साल बाद. साल 1958 में सरकार ने उनके प्रस्ताव को मंजूर किया और पूरी दुनिया में अगस्त के पहले Sunday को International Friendship Day घोषित कर दिया.

और दूसरा ये

do-you-know-when-was-the-start-of-friendship-day-and-why-are-it-celebrated
Image source: india

प्रथम विश्व युद्ध के बाद लोगों और देशों के बीच काफी शत्रुता बढ़ गई थी. लोग एक दूसरे से नफरत करते थे. तब 1935 में अमेरिकी सरकार ने फ्रेंडशिप डे की शुरुआत की थी. उस समय ये बात तय की गई थी कि अगस्त का जो भी पहला रविवार होगा, उसी दिन फ्रेंडशिप डे मनाया जाएगा. इस दिन को तय करने के पीछे एक मत ये भी है कि संडे के दिन लोगों की छुट्टी होती है और वो दोस्‍तों के साथ ये दिन इंज्‍वॉय कर सकते हैं.

do-you-know-when-was-the-start-of-friendship-day-and-why-are-it-celebratedक्‍या करते हैं इस दिन
‘फ्रेंडशिप डे’ मनाने का चलन वैसे तो पश्चिमी देशों से शुरु हुआ, लेकिन भारत में भी पिछले कुछ सालों से युवाओं के बीच काफी पॉपुलर हो रहा है. ग्रीटिंग कार्ड, सोशल मीडिया और एसएमएस के जरिए लोग एक दूसरे को इस दिन पर बधाई देते हैं और पूरी जिंदगी सच्ची दोस्‍ती निभाने का वचन लेते हैं.

यह भी पढ़ें- क्या आप जानते हैं, भारत में एक ऐसा रेलवे स्टेशन है जहाँ जाने के लिए वीजा और पासपोर्ट चाहिए-

यह भी पढ़ें- 1 हाथ से 14 लेन का हाइवे बना रहा यह शख्स, इसकी हिम्मत को सलाम

यह भी पढ़ें- इस जगह 24 घंटे सरेआम होता है जिस्मफरोशी का सौदा,14 हज़ार लड़कियां लिप्त होने को मजबूर हैं-

यह भी पढ़ें- जानें मानसून मे किस तरह से रखें, महिलायें अपनी डायट का ख्याल

यह भी पढ़ें- रिलीज़ हो चुकी है, Sunny Leone की बायोपिक, होंगे रूबरू ज़िंदगी के कुछ अंजान पलो से-

यह भी पढ़ें- कहीं आप सावन में भोलेनाथ को मनाने की जगह रुष्ट तो नहीं कर रहे ? इन सभी बातों का रखें ध्यान-

Fenkmat.com से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें Facebook पर ज्वाइन करें और Twitter पर फॉलो करें. अगर आपको हमारा आर्टिकल पसन्द आया तो हमें कमेन्ट करके बताएं और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें।

Leave Your Comment Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *