Press "Enter" to skip to content

“मन की बात” आप तक पहुंचने के लिए सरकार ने खर्च किये 3755 करोड़ रुपए RTI से खुलासा

Sandy

नई दिल्ली| मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल के साढ़े तीन वर्ष के दौरान इस वर्ष अक्टूबर तक विज्ञापनों पर लगभग 3,755 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। आरटीआई के जरिए हासिल जानकारी से शुक्रवार को यह खुलासा हुआ है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने आरटीआई के जवाब में बताया, “इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट मीडिया और बाहरी(आउटडोर) विज्ञापनों पर अप्रैल 2014 से अक्टूबर 2017 तक खर्च की गई राशि लगभग 3,755 करोड़ रुपये है।”

यह आरटीआई नोएडा के एक आरटीआई कार्यकर्ता रामवीर तंवर ने दाखिल की थी, जिसकी प्रति आईएएनएस के पास उपलब्ध है। सूचना के अनुसार, केंद्र सरकार ने सामुदायिक रेडियो, डिजिटल सिनेमा, दूरदर्शन, इंटरनेट, एसएमएस व टीवी समेत इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में विज्ञापन पर करीब 1,656 करोड़ रुपये खर्च किए।

यह भी पढ़ें:- हार्दिक पांड्या की गर्लफ्रैंड हैं इतनी खूबसूरत कि एक्ट्रेस भी हैं उनके सामने फीकी, यकीन नहीं तो खुद देख लीजिये

प्रिंट मीडिया के लिए, सरकार ने 1,698 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च किए। आरटीआई से पता चला है कि सरकार ने बाहरी विज्ञापनों, जिसमें होर्डिग, पोस्टर, बुकलेट्स व कैलेंडर शामिल हैं, पर 399 करोड़ रुपये से अधिक खर्च किए।

यह भी पढ़ें:- जिंदा बच्चे को मृत घोषित करने वाले मैक्स हॉस्पिटल का दिल्ली सरकार ने लाइसेंस रद्द किया

वर्ष 2016 में तंवर द्वारा दाखिल आरटीआई से खुलासा हुआ था कि केंद्र ने एक जून, 2014 से 31 अगस्त, 2016 के बीच ऐसे विज्ञापनों पर 11,00 करोड़ रुपये खर्च किए, जिनमें प्रधानमंत्री मोदी को दिखाया गया था।

 मंत्रालय ने विज्ञापन खर्च पर जो आंकड़े दिए हैं, उसके अनुसार, एक जून, 2014 से 31 मार्च, 2015 के बीच 448 करोड़ रुपये खर्च किए गए। वहीं एक अप्रैल, 2015 से 31 मार्च, 2016 तक 542 करोड़ रुपये और एक अप्रैल, 2016 से 31 अगस्त, 2016 तक 120 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।
Leave Your Comment Here
  1. navnit nema navnit nema

    Bhai aapki update sari but sandaar or kaam ki he mujhe in he padkar bht hi acccha laga
    aapki wapsate ke bare me Sumit Vaidhya nsui Ji ne bataya Tha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *