Press "Enter" to skip to content

यहाँ सुनामी रोकने के लिए समुद्र को ही कर दिया कैद, इसे कहते है दिमाग….क्या आपके पास भी है ऐसा दिमाग..

archna

साल 2011 में जापान में आई टी सुनामी याद है आपको, वही  जहाँ जापान का ज्यादातर हिस्सा तबाह हो गया था,  उस  समय सुनामी की ऐसी ऐसी भयानक तस्वीरें मीडिया में आई थीं कि देखने वालों के होश उड़ गए थे, समुद्र की विशालकाय लहरों ने किनारे पर बनी इंसानी बस्तियों को तिनके की तरह बहाकर रख दिया था

समुद्र से उठी लहरों का जोर ऐसा आया था कि कारें पत्तों की तरह उड़कर घरों की छत पर पहुंच गईं थी और घर बहकर बहुत दूर चले गए थे। इस सुनामी के कारण ही जापान के कई बड़े परमाणु रिएक्टरों को भी काफी नुकसान हुआ था, जिन्हें खतरे को भांपते हुए बंद करना पड़ा था, लेकिन कहा जाता है कि इस हादसे के बाद जपान और अधिक मजबूती के साथ खड़ा हो उठता है। पिछली सुनामी के कारण जब जापान काफी हद तक तबाह हो गया था तब उसने और मजबूती के साथ न केवल विकास की ओर अपने कदम बढ़ाए बल्कि दोबारा सुनामी के खतरे को टालने के लिए भी तैयारी कर ली है.

यह भी देखें-  आज के जमाने की सुभद्रा, खुद बारात लेकर पहुंची दूल्हे के घर, तोड़े सारे रिवाज..

जापान ने समु्द्र से उठती हुई इन विशाल लहरों को रोकने के लिए अब समुद्री किनारों पर ऊंची ऊंची दीवारें खड़ी कर दी गई हैं। 40 फुट से ऊंची इन दीवारों को लांघना समुद्री लहरों के लिए थोड़ा कठिन है, आइए आपको दिखाते हैं इन्हीं दीवारों की कुछ तस्वीरें।

जापान ने अब इन समुद्री किनारों पर काफी ऊंची ऊंची दीवारें खड़ी कर दी हैं.

जापान सरकार ने इन इंसानी बस्तियों को समुद्री लहरों से बचाने के लिए ये दीवारें खड़ी की हैं, जिससे समुद्र की ऊंची ऊंची लहरें इनसे टकराकर वापस लौट जाएं और यहां रहने वाले लोगों को कोई नुकसान न हो।

यह भी देखें-  अनुष्का शर्मा ने अपलोड किया ऐसा फ़ोटो कि किसी ने कहा अश्लील तो किसी ने कहा बहुत ही

इन दीवारों का निर्माण सीमेंट और सरिए के ठोस पिलरों से किया गया है। जिनकी मोटाई तीन से चार फुट के करीब है।

बता दें कि साल 2011 में आई सुनामी के कारण जापान को काफी नुकसान उठाना पड़ा था, उसके बाद से ही इससे निपटने की तैयारी शुरू कर दी गई थीं।

आपको हमारा आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेन्ट करके जरूर बताएं और आर्टिकल पसंद आये तो लाइक करें और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें।

 

Leave Your Comment Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *