Press "Enter" to skip to content

Headache : सिरदर्द के प्रमुख कारण, दर्द होने पर यह बिल्कुल ना करें, सिर्फ़ इन 5 टिप्स से दर्द होगा छूमंतर

Sandy

Headache एक आम समस्या है। सिर के किसी भी हिस्से में दर्द हो सकता है और यह दर्द केवल लक्षण होता है जो कि सिर की किसी बीमारी को दर्शाता है। कई बार बहुत ज्यादा तनाव लेने, थकावट होने, भूखे रहने, गर्मी तेज होने या किसी आम शारीरिक समस्या जैसे कि बुखार या जुकाम के कारण भी सिर दर्द हो सकता है।

सिर का दर्द दिमाग में मौजूद पेन सेंसिटिव स्ट्रक्चर (pain sensitive structure) में तनाव होने से होता है। सिर और गर्दन में ऐसी नौ जगह होती हैं जहां पेन सेंसिटिव स्ट्रक्चर होते हैं, जैसे मांसपेशियां, नसें, आंखें, कान, नर्व, आर्टरीज (arteries), सबक्यूटेनियस टिश्यू (subcutaneous tissues), साइनस (sinus), क्रेनियम (cranium) और म्यूकस मेम्ब्रेन (mucous membrane). ज्यादातर सिर दर्द को पेन किलर खाकर ठीक कर लिया जाता है जबकि कई बार सिर्फ आराम करने या हल्की मसाज से भी सिर दर्द से राहत मिल जाती है।

सिर दर्द के कुछ मुख्य प्रकार हैं (Types of headache)
1. तनाव लेने से होने वाला सिर दर्द
2. माइग्रेन का दर्द
3. ट्रांसफार्म माइग्रेन
4. क्लस्टर सिर दर्द
5. साइनस सिर दर्द
सिरदर्द के लक्षण
1.उच्च रक्त चाप होना
2.कब्ज या दस्त होना
3.ज्यादा शराब पीना
4.तनावग्रस्त होना
5.पेट ठीक न होना
Headache reasons
Third Party image

सिर दर्द के कारण- (Cause of Headache)
सिर का दर्द, दिमाग में रक्त कोशिकाओं (blood vessels) और शिराओं (nerves) के आपस में टकराने से होता है। दर्द के समय रक्त कोशिका की एक निश्चित सिरा और सिर की मांसपेशियां सक्रिय होती हैं और दिमाग को दर्द का सिग्नल भेजती हैं। जिससे सिर दर्द महसूस होता है।

सिर दर्द के अन्य कारण (Other Reasons of headache)
1. जब व्यक्ति किसी चीज को लेकर खुद पर दबाव महसूस करता है या किसी स्थिति या परिस्थिति को लेकर असमंजस में होता है, ऐसे में उसका मन अशांत हो जाता है और दिमाग पर ज्यादा गहरा प्रभाव पड़ता है जिसके कारण तनाव होता है और सिर दर्द होने लगता है.
2. दिमाग की रक्त वाहिनियों में बदलाव होने से होने वाले दर्द को माइग्रेन का दर्द कहा जाता है. इस तरह के सिर दर्द में सिर के किसी एक हिस्से में चुभन भरा दर्द होता है और दर्द के साथ जी मिचलाने, गैस और उल्टी जैसी समस्याएं भी होती हैं. इतना ही नहीं व्यक्ति फोटोफोबिया (रोशनी से परेशानी) और फोनोफोबिया (शोर से परेशानी) से भी परेशानी महसूस करता है। पर्याप्त नींद न लेने, भूखे रहने या कम पानी पीने से माइग्रेन हो सकता है.
3. कुछ महिलाएं हार्मोन में बदलाव के दौरान गंभीर सिर दर्द महसूस करती हैं. यह स्थिति मोनोपोज, मासिक स्त्राव, ओवेल्यूशन आदि के दौरान भी हो सकती है, मासिक स्त्राव में उतारा चढ़ाव से भी इस तरह का सिर दर्द बना रह सकता है.
4. कुछ खास तरह की दवाइयों का ज्यादा दिन तक लेने के कारण रिबाउंड सिरदर्द की समस्या हो हो सकती है. कई बीमारियां ऐसी होती हैं जिनमें दवाईयां लंबे समय तक चलती हैं, ऐसे में यह मस्तिष्क को प्रभावित कर सकती हैं, इस तरह का सिर दर्द दवाएं बंद होने के साथ खुद ही बंद हो जाता है.
5. दांत दर्द से भी सिर की नसें प्रभावित होती हैं. दांत और सिर की नसें जबड़े पर जाकर मिलती हैं जिससे दांत और सिर एक दूसरें को कनेक्ट करते हैं. जिससे दांत में किसी भी तरह की तकलीफ होने से सिर में दर्द होने लगता है.

यह भी पढ़ें- Stomach pain : पेट दर्द में राहत के लिए 5 घरेलू उपाय, जानिये पेट दर्द के मुख्य कारण-

सामान्य उपचार

सिर दर्द से राहत के लिए टिप्स- (Tips to Prevent Headache)
– सिर दर्द हो तो सबसे पहले कारण जानने की कोशिश करें, उसके अनुसार हल ढूंढें.
– गर्मी हैं तो ठंडा पानी पीएं और सर्दियां हैं तो सिर को ठंड से बचाकर रखें
– सिर को हल्के हाथों से दबाकर भी सिर दर्द से राहत मिल सकती है
– अपना ध्यान कहीं और दर्द से हटाकर कहीं और लगाने की कोशिश करें, जैसे हल्का संगीत सुनें
– गहरी सांसे लेने से भी सिर दर्द से राहत मिलती है.
– गर्मियों में ठंडे तेल की मालिश भी सिर दर्द से राहत दे सकती है.
– चाय या कॉफी पीकर देखें, इनमें मौजूद कैफीन से भी सिर दर्द में आराम मिलता है.
– बादाम और अखरोट जैसे ड्राई फ्रूट को रोज खाएं, इससे तनाव कम होता है और दिमाग मजबूत होता है

अगर आपको हमारा आर्टिकल पसन्द आया तो हमें कमेन्ट करके बताएं और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें।

Leave Your Comment Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *