Press "Enter" to skip to content

The Gutless Foodie | बिना पेट के भी कोई जिंदा रह सकता है, यकीन नहीं होता ना ! तो मिलिये इस लड़की से

Sandy 0

The Gutless Foodie | दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं। एक तो वो जो अपनी परेशानियों से हार मान लेते हैं। और दूसरे वो जो अपनी परेशानियों को अपनी ढाल बनाते हैं। और साथ ही कुछ ऐसा कर जाते हैं कि दुनिया के लिए अपनी मिशाल कायम करते हैं। तो आज हम बात कर रहे हैं,ऐसी ही महिला की जिन्होंने अपने हौंसलो और हिम्मत से ना सिर्फ अपनी तकलीफ को मात दी वरन उसे अपनी ताकत बनाया। अपने हौसलों के पंखों से सफलता को छूने वाली महिला का नाम है नताशा डीड्डी।

हम सभी के जीवन में खाने का क्या महत्व है। इस बात से तो हम सभी भलीभांति वाकिफ़ हैं। हम सब कहीं न कहीं अपने आपको बहुत Foodie समझते हैं। लेकिन असली खाने का शौकीन किसे कहते हैं, ये जानना है, तो हमे नताशा डिड्डी के बारे में जरूर जान लेना चाहिए।

तो आइए जानते हैं नताशा के बारे में, कॉलेज के दिनों से ही उन्हें खाने से बेहद प्यार था। और उससे भी ज्यादा उनकी दिलचस्पी इस बात में थी, कि जो वो खाती हैं वो बनता कैसे है ?  नताशा हमेशा से ही खाने को लेकर बहुत Passionate थी। इसके चलते नताशा ने अपने शौक को ही अपना लक्ष्य बनाने का सोचा, और मुंबई से Cooking कोर्स भी किया। Course खत्म होते ही उन्होंने मुंबई के ही कई होटल,रेस्टोरेंट आदि में Job भी की।

यह भी देखें- कार्तिक के कदमों में बिछा सोशल मीडिया, अमिताभ बच्चन ने मांगी माफी

वह अपने इस शौक को एक जायज़ मुकाम पर ले जाना चाहती थी। लेकिन एक हादसे ने उनकी ज़िंदगी को बदल कर रख दिया। हुआ कुछ यूं कि अपनी शादीशुदा जिंदगी में पारिवारिक कलह की वजह से उनका तलाक हो गया। और तनाव के कारण उनके शरीर में कई बीमारियों ने घर कर लिया। कांधे में दर्द की शिकायत रहने लगी जो कि उनके पेट में बढ़ रहे ट्यूमर की वजह से होता था। जब तक नताशा ट्यूमर का इलाज करवा पातीं डॉक्टरों ने उनके कांधे का ही दो बार ऑपरेशन कर दिया। बाद में उन्हें एक डॉक्टर ने बताया कि Problem कांधे में नहीं दरसल पेट में है। क्योंकि दर्द उस समय ज्यादा होता था जब नताशा कुछ खाती थी। फिर उनका ट्यूमर का ऑपरेशन किया गया, इस ऑपरेशन में के दौरान डॉक्टर्स को मालूम चला कि ट्यूमर ने पूरे पेट को ही अपनी जकड़ में ले लिया है, और डॉक्टर्स को उनका पूरा पेट ही निकालना पड़ा। जब नताशा होश में आई तो उन्हें बताया गया कि उनका पेट ही नहीं रहा ऑपरेशन के बाद। इस पर वो काफी निराश हुई क्योंकि खाने की दीवानी नताशा को ये बहुत बड़ा सदमा था।

That Modified "Sindhi Kadhi" – Done Purists look away now. This is the version that I can digest. I'm not claiming authenticity. This is a Latergram My mamma was staying with me & she felt like eating this. I was trying not to use my hands too much because I'm still in pain due to carpal tunnel syndrome. I made this simple meal for her. I ate without rice I pressure cooked french beans, potatoes, peas & drumsticks from our farm in salted water along with asafoetida I dry roasted besan/chickpea flour till it turned light brown & once cooled, I added in red chilli powder, turmeric powder, cumin powder & four times the amount of water & stirred constantly so as not to form lumps. I tempered vegetable oil with cumin seeds, ginger paste & green chillies. I then added in the chickpea flour mixture along with curry leaves, dried fenugreek leaves & fresh coriander. Once it came to a boil, I added in the vegetables, tamarind pulp & fresh tomatoes I simmered till it all came together & served hot with freshly made rice & roasted lentil papad/popadoms She loved it & we ate it over lots of conversation & laughs. Isn't it amazing when your parents like your food? . . . #foodphotographer #foodtalkindia #walkwithindia #sindh #sindhifood #punjabifood #curry #sindhicurry #indiancurry #homecookedmeals #indianfoodbloggers #Indianrecipe #foodiesofindia #foodofindia #foodphotography #foodphotooftheday #recipeoftheday #foodfotographer #thaali #foodfotography #indianmeal #indianthali #cookedwithlove #mixedveggies #mixedveg #sindhi #kadhi #frenchbeans #aloo #basmatirice

A post shared by Natasha Diddee (@thegutlessfoodie) on

लेकिन वो हार मानने वालों में से नहीं थीं, तो उन्होंने गुमनामी में जीवन जीने की वजाय अपनी इस तकलीफ़ से उबरकर उन लोगों की मदद करने की ठानी ताकि ऐसी परेशानी फिर किसी को ना हो।
इसलिये खाने के प्रति अपने Passion को खुद तक सीमित न रख के हज़ारों लोगों तक अपनी बात पहुंचाने का फैसला लिया और इसके लिए सहारा लिया Social Networking Sites का जैसे इंस्टाग्राम और Facebook का। इन Sites पर उन्होंने अपने Account को नाम दिया है “The Gutless Foodie”
जिस पर वह Healthy और स्वादिष्ट भोजन को उनके चित्र के साथ अपने प्रेरणादायक विचारों के साथ प्रस्तुत करती हैं।वह ऐसी Recipes तैयार करती है जो लाभदायी होने के साथ हमारे घर मे इस्तेमाल होने वाली सामग्रियों से ही तैयार होती हैं। आज Instagram पर उनके 70000 हज़ार से भी ज्यादा चाहने वाले हैं।

यह भी देखें- एलियन के साथ जमकर नाचीं दिव्यांका त्रिपाठी, कहा नहीं नाचती तो एलियन मुझे छोड़ता नहीं

नताशा कहती हैं “खाना पकाते समय उनकी सभी इंद्रिया उनके वश में रहती हैं,यह काम उनके लिए भगवान की प्रार्थना करने के समान ही है”। साथ ही उनका यह भी कहना है कि “तनाव अत्यंत भयानक है और यह स्थायी रूप से जीवन को नकारात्मकता से भर देता है, और अगर सही समय पर इससे ना उबरा जाये तो आप खतरे में आ सकते हैं। इसलिए अपने आप से प्रेम कीजिये और हमेशा सकरात्मक रहिये”  इनके हौसले को देखकर डॉक्टर हरिवंशराय बच्चन की दो पक्तियां याद आ गयी.
“लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती और कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती”।

अगर आपको हमारा आर्टिकल पसन्द आया तो हमें कमेन्ट करके बताएं और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें।

Leave Your Comment Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *