Press "Enter" to skip to content

Indian flag ? क्या आप जानते हैं किसने बनाया हमारा राष्ट्रध्वज ?

Sandy

अगर आपके पास भी इस सवाल का जवाब नहीं है तो चलिए हम आज आपको बताते हैं इसका जवाब, आज जबकि देशप्रेम की बात ज्यादा हो रही है ऐंसे में आपको देशप्रेम से जुड़े हर सवाल का जवाब पता होना चाहिये अन्यथा आपको शर्मिंदगी महसूस करना पड़ सकती है। हमारा ज्ञान का भंडार असिमित करने के चक्कर में हमें कुछ ऐंसे सवालों का ही जवाब पता नहीं होता जो हमें होना चाहिये।

pingali venkayya fenkmat
Credit pixabay

आज हम बात कर रहे हैं राष्ट्रध्वज के निर्माता की जिन्होंने हमारा आज का तिरंगा डिजाइन किया था, उनका नाम था पिंगली वेंकैया राष्ट्रध्वज के डिजाइन का श्रेय पिंगली को ही जाता है।
यह भी पढ़ें- Gujrat का एक गांव ऐंसा भी जहां हर लड़की करती है देहव्यापार

और अधिक रोचक जानकारी-

Pingali venkayya – भारत के राष्ट्रीय ध्वज के अभिकल्पक हैं। वे भारत के सच्चे देशभक्त एवं कृषि वैज्ञानिक भी थे।

pingali venkayya
Third party image

जीवनी – पिंगली वैनकैया का जन्म 6 दिसम्बर 1906 , को वर्तमान [आंध्रा प्रदेश ] के मछली पत्‍टनम के निकट हुआ था। इनके पिता का नाम पाण्डुरंग और माता का नाम काल्पवती था और यह भू-ब्राह्मण कुल नियोगी से संबद्ध थे। मद्रास से हाई स्कूल उत्तीर्ण करने के बाद वो अपने वरिष्ठ स्नातक को पूरा करने के लिए कैंब्रिज यूनिवर्सिटी चले गये। वहाँ से लौटने पर उन्होंने एक रेलवे गार्ड के रूप में और फिर लखनऊ में एक सरकारी कर्मचारी के रूप में काम किया और बाद में वह एंग्लो वैदिक महाविद्यालय में उर्दू और जापानी भाषा का अध्ययन करने लाहौर चले गए।
वो कई विषयों के ज्ञाता थे, उन्हें भूविज्ञान और कृषि क्षेत्र से विशेष लगाव था। वह हीरे की खदानों के विशेषज्ञ थे। पिंगली ने ब्रिटिश भारतीय सेना में भी सेवा की थी और दक्षिण अफ्रीका के एंग्लो-बोअर युद्ध में भाग लिया था। यहीं यह गांधी जी के संपर्क में आये और उनकी विचारधारा से बहुत प्रभावित हुए।
1906 से 1911 तक पिंगली मुख्य रूप से कपास की फसल की विभिन्न किस्मों के तुलनात्मक अध्ययन में व्यस्त रहे और उन्होनें बॉम्वोलार्ट कंबोडिया कपास पर अपना एक अध्ययन प्रकाशित किया। इसके बाद वह वापस किशुनदासपुर लौट आये और 1916 से 1921 तक विभिन्न झंडों के अध्ययन में अपने आप को समर्पित कर दिया और अंत में वर्तमान भारतीय ध्वज विकसित किया। उनकी मृत्यु 4 जुलाई, 1963 को हुई।

Deepak Tiwari

Source

Leave Your Comment Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *